Swayam sahayata samuh mein nuakari । स्वयं सहायता समूह में नौकरी 2024 । कोटेदार की नौकरी

स्वयं सहायता समूह में महिलाओं को रोजगार एवं नौकरी देने का कार्य राष्ट्रीय आजीविका मिशन भारत सरकार द्वारा किया जाता है। भारत में महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने के लिए nrlm द्वारा सभी क्षेत्रों में महिलाओं को नौकरी देने के प्रयास किए जा रहे हैं।

हाल ही में न्यूज़ मीडिया चैनल द्वारा यह अपडेट जारी किया गया है कि स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को कोटेदार के पदों पर नियुक्त किया जाएगा।

आइए जानते हैं स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को कोटेदार के पदों कैसे नियुक्त किया जाएगा। कोटेदार के पदों पर नियुक्त होने के लिए महिलाओं को कितनी सैलरी मिलेगी पूरी जानकारी।

स्वयं सहायता समूह में नौकरी 2024। स्वयं सहायता समूह में कोटेदार  नौकरी।

केंद्र सरकार ने महिलाओं को महिला सशक्तिकरण करने और महिलाओं को आर्थिक रूप से मजबूत बनाने के लिए स्वयं सहायता समूह में नौकरी (2024) (swayam sahayata samuh mein nuakari) एवं रोजगार प्रदान करने पर जोर दिया है। स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को रिक्त कोटेदार के पदों पर नियुक्त करने की बात कही है। जिसमें स्वयं सहायता समूह की योग्य महिलाएं रिक्त हुए कोटेदार के पदों पर नियुक्त की जाएंगी।

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत चल रहे स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को मिशन रोजगार के तहत जोड़ते हुए। महिलाओं को कोटेदार के पद पर नियुक्त करने की योजना बनाई है। जिसमें महिलाओं को यदि कोटेदार के पद पर नियुक्त होना है तो उन्हें एक परीक्षा देनी होगी। इस परीक्षा से संबंधित विज्ञापन सरकार निर्धारित समय पर निकालेगी। 

कोटेदार के पद पर नियुक्त होने के लिए योग्यता।

राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को कोटेदार के उन पदों पर नियुक्त किया जाएगा जहां पर योग्य कोटेदार नहीं है अथवा कोटेदारों के पद रिक्त पड़े हुए हैं। कोटेदार के पद पर नियुक्त होने के लिए स्वयं सहायता समूह की महिलाओं में निम्नलिखित योग्यताएं होनी चाहिए।

  • स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को कोटेदार के पद पर नियुक्त होने के लिए कक्षा 10 से 12 वीं पास होना अनिवार्य है।
  • स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को कोटेदार के पद पर नियुक्त होने के लिए अपने समूह को समूह के नियमों के अनुसार चलाना होगा और प्रत्येक सप्ताह में मीटिंग करनी हो होगी।
  • स्वयं सहायता समूह में कोटेदार के पद पर नियुक्त होने के लिए वहां के समूह को श्रेष्ठतम समूह बनाना होगा। श्रेष्ठतम समूह से मतलब है कि समूह की प्रत्येक गतिविधियां जैसे कि साप्ताहिक बजट रजिस्टर का लेखा-जोखा पूरी तरह से पूर्ण होना चाहिए।

कोटेदार के पद के लिए स्वयं सहायता समूह की महिलाओं का चयन कैसे होगा?

स्वयं सहायता समूह की महिलाओं का चयन निम्नलिखित आधार पर होगा।

  • कोटेदार के पद के लिए। नियुक्ति हेतु महिलाओं की शैक्षणिक योग्यता को देखा जाएगा। योग्य महिला को कोटेदार के पद पर नियुक्त किया जाएगा।
  • यदि किसी गांव में राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत दो या तीन समूह चल रहे हैं और उन सभी महिलाओं ने कोटेदार पद के लिए आवेदन किया है। तो इसमें उन्हीं महिला को वरीयता दी जाएगी जो गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन कर रहे हैं और शैक्षणिक योग्यता में अच्छी है।
  •  कोटेदार के पद पर नियुक्त करने से पहले उस समूह की महिला की सभी लेखा-जोखा को देखा जाएगा। उसके समूह के ग्रेड को देखा जाएगा।

Swayam sahayata samuh कोटेदार के पद पर नियुक्त महिलाओं को कितनी मिलेगी सैलरी।

स्वयं सहायता समूह के माध्यम से कोटेदार के पदों पर नियुक्त होने वाली महिलाओं को खाद्य एवं रसद विभाग द्वारा निर्धारित संविदा वेतन दिया जाएगा।

कोटेदार के पद पर नियुक्त किए जाने वाली महिलाओं को खाने के लिए राशन और जितना वेतन पिछले कोटेदार को मिल रहा होगा वही वेतन और वही सुविधाएं महिला कोटेदार को भी दी जाएंगी।

Leave a comment